Visit blogadda.com to discover Indian blogs कठफोड़वा

मेरी नई ग़ज़ल


जिन
के साथ खेल गुजारा था जमाना,

उनकी नज़र में हम अब मेहमान हो गए।

जिन दोस्तों के साथ बचपन को गुजारा,
सिद्दत के बाद वे ही अनजान हो गए।

घर से तो गए दूर शहर काम के लिए,

हम गांव छोड़ खुद ही बेनाम हो गए।

गांव की वो हरियाली बाग घट गए,

अब गांव भी शहर से विरान हो गए।

बदली हुई है नज़रें बदला है ज़माना,
हम अबकी गांव आके हैरान हो गए।

पुछे न कोई मुझसे क्या हाल तुम्हारा ,
अपनों के बीच अपनी पहचान खो गए।

-राजेश कुमार

Comments :

3 comments to “ ”
RAJESH KUMAR ने कहा…
on 

bahut badiya ghazal......

संजय भास्कर ने कहा…
on 

आपने बड़े ख़ूबसूरत ख़यालों से सजा कर एक निहायत उम्दा ग़ज़ल लिखी है।

चन्दन राय ने कहा…
on 

aapki pachan logon ke dilon mein kkyam hai. nirash na hon. bahoot aachi shuruwat.is umeed mein ki aage bhi likhte rahengay

एक टिप्पणी भेजें