Visit blogadda.com to discover Indian blogs कठफोड़वा: उनकी भूख

उनकी भूख

उनकी भूख
नहीं मिटती रोटी से
सब्जी-चावल-दाल खाकर
नहीं पेट भरता उनका
उनकी प्यास का पानी से
नहीं है रिश्ता
उन्हें जायका लग चुका है
ताजे गोश्त का
गरमागरम रक्त का
उन्हें पसंद आते हैं
ढेर लाशों के
भूख उनकी वोटों की है..


सिक्कों की खनकती आवाजें
और एक खास किस्म की कुर्सी
जिसके पाए हड्डियों के 

चूर्ण से बने हैं
उसके बीचोंबीच भरा है
मासूमों का मुलायम मांस
उनकी रूह से मवाद
रिसता है दिनरात
उनके हाथों में कानून की
किताबें है
और जेब में रिवाल्वर
रातें उनकी साजिशों में गुजरती है
और फिर धीरे-धीरे
दंगे की आग सुलगती है। 

Comments :

2 comments to “उनकी भूख”
Buy contact lenses online in india ने कहा…
on 

Hey keep posting such good and meaningful articles.

बेनामी ने कहा…
on 

Thanks for sharing this real life image of life by this post.
Book Publisher company in india

एक टिप्पणी भेजें