Visit blogadda.com to discover Indian blogs कठफोड़वा: लो क सं घ र्ष !: नये विचारों की रोशनी में

लो क सं घ र्ष !: नये विचारों की रोशनी में


संघर्ष
देखा है मैंने तुम्हें
ताने सुनते/जीवन पर रोते
देखा है मैंने तुम्हे सांसों-सांसों पर घिसटते
नये रूप / नये अंदाज में
देखा है मैंने तुम्हें
पल-पल संघर्ष में उतरते
मानो कह रही हो तुम
बस - बस -बस
अब बहुत हो चुका ?
सहेंगे अत्याचार, सुनेंगे ताने
हर जुर्म का करेंगे प्रतिकार
नये विचारों की रोशनी में।

-सुनील दत्ता

Comments :

1
mridula pradhan ने कहा…
on 

very good.

एक टिप्पणी भेजें